जब मौत बोले हेलो

जब मौत बोले हेलो Jab maut bole hello

वैसे तो अपने कई प्रकार के भूतो की कहानिया सुनी होगी, लेकिन क्या अपने कभी मोबाइल वाले भूत यानी की प्रेत की कहानी कभी सुनी है. अगर नहीं सुनी है तो आज मैं आपको इसके बारे मैं बताने जा रहा हु. इसमें होता ये है की आपके फ़ोन पर एक अनजान कॉल आती है और उसमे सामने से ये आवाज आती है की आप कुछ ही दिनों मैं मरे जाओगे और कॉल डिस्कनेक्ट हो जाती है. जी हां ये एक दम से सत्य बात है. मेरा नाम सुहेल है और मैं महाराष्ट्र का रहने वाला हु. एक दिन की बात है जब मैं अपने दोस्त की बर्थडे पार्टी मैं गए हुआ था और मुझे वहाँ से लौटने मैं बहुत ही रात हो गयी थी. की तभी मेरे मोबाइल पर एक साल आयी लेकिन उस पर किसी भी इंसान का कोई भी नंबर डिस्प्ले नहीं हो रहा था. जो भी डिस्प्ले हो रहा था वो केवल अननोन नंबर ही दिख रहा था.

मुझे लगा की शायद कोई मेरा दोस्त मुझे से मजाक कर रहा है, कोई नई नंबंर लेकर. मैंने जैसे ही कॉल उठायी तो आवाज़ आयी की ” तुम कुछ ही दिनों मैं मारे जाओगे”, और फिर कॉल कूट गयी. मैंने तुरंत ही कॉल बैक की तो नंबर नॉट रीचेबल जा रहा था. मैं बहुत ही डर गया की ये नंबर किसका है और कौन मुझे जान से मरना चाहता है तो मैंने अपने सभी दोस्तों से पूछना शुरू कर दिया की मुझे कुछ इस तरहे से एक कॉल आयी थी क्या तुम लोगो ने की थी. लेकिन सभी ने मना किया की हमने तुझे कोई भी कॉल नहीं की है. अब तो मैं बहुत ही ज्यादा डर चूका था. एक रात मैं जब सो रहा था तो अचानक से मेरे दरवाजे के बहार किसी के चलने की आवाज़ आ रही थी.

तो मैंने उठ कर देखा तो कोई भी नहीं था. मुज्महे लगा शायद मेरा कोई वहम होगा. लेकिन जैसे ही मैं दोबारा सोने के लिए गया तो मुझे फिर से आवाज़ आने लग गयी. लेकिन इस बार मैं उठा नहीं बल्कि चादर मैं घुस गया और सो गया. अगली रात मेरे साथ फिर ऐसा ही हुआ. मुझे रात को लगभग 2 बजे किसी के चलने के आहट सुनाई दी तो मैं उठा और देखा की कोई भी नहीं था लेकिन आहट साफ़ सुनाई दे रही थी. मैंने बहुत डर गया की तभी मेरे पास आकर कोई ज़ोर से चिल्लाया , मैंने देखा तो कोई भी नहीं था. बार बार वो आवाज़ यही कह रही थी की अब तुम ज़िंदा नहीं बेचोगे. तुम मारे जाओगे. अब तो मेरी साँसे मानो चलना ही बंद हो चुकी थी. मैं सहमा हुआ सा घर के एक कोने मैं जाकर बेथ गया. लेकिन फिर भी उन आवाज़ों ने मेरा जीना मुश्किल कर रखा था.

वो आवाज़े रात भर मेरे कानो मैं गूंजती रही. और रात भर मैं सो न स्का. मुझे लग रहा था की आज तो मैं ज़िंदा ही नहीं बचूगा लेकिन ये मेरी खुश नसीबी थी की मैं बच गया. लेकिन जब मैं अगली सुबह घर से बहार निकला तो मुझे पता चला की पड़ोस मैं रहने वाले अंकल की मोत हो चुकी थी, इसका मतलब ये है की वो किसी न किसी को तो ले ही जाती है आप बच गए तो क्या हुआ वो किसी और को अपने साथ ले गयी. उस दिन से तो मेरे होश पूरी तरह से ही उड़ चुके थे. मैं समझ गया था की ये बात एक दम सत्य है. उस दिन के बाद से मैंने अपने पास मोबाइल रखना ही बंद कर दिया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *