तुलसी के अचूक उपाय

तुलसी के अदभुत उपाय Tulsi Ke Adbhut Upay tulsi tips in hindi

में आपको तुलसी के अद्भुत उपयो के बारे में बताने जा रहा हु. तुलसी का पौधा हमेशा एक गमले में अपने घर के आंगन में लगाना चाहिए. और निरंतर इसकी पूजा करनी चाहिए. साथ ही में एक पौधा काले धतूरे का भी लगाना चाहिए. और इन दोनों पोधो पर दिन प्रतिदिन स्नान करके निवर्त होकर सुद्ध जल में थोड़ा सा कच्चा दूध मिलाकर इनकी पूजा करनी चाहिए. तुलसी विष्णु प्रिय होती है.


तुलसी के अचूक उपाय इस प्रकार है Tulsi ke upay

1. हमें तुलसी के पत्तो का नित्य सेवन करना चाहिए लेकिन हमे कभी भी तुलसी के पत्तो को अपने दांतो के बिच चबाने नहीं चाहिए.

2. हमे प्रतिदिन दही के साथ तुलसी के पत्तो और चीनी दोनों को मिलाकर सेवन करना बहुत ही सुबह माना जाता है. ऐसी मान्यता है की आप जब भी घर से बाहर निकले तो तुलसी के पत्तो का सेवन करे इससे आपके सभी कार्य सफल होंगे.

3. सदा ही तुलसी के दर्शन करके ही घर से बाहर निकले क्योंकि इसे सुबह और सफल माना जाता है.

4. अगर आप तुलसी का पौधा अपने घर के किचन के पास रखते है तो घर के सदस्यो में आपसी प्रेम और सामंजस्य बना रहता है.

loading...


5. ऐसा भी माना जाता है की अगर घर की कन्या का विवाह नहीं हो पा रहा है तो यह कन्या तुलसी के पौधे को घर दक्षिण-पूर्व में रख उसे रोजाना जल से निहलाये. ऐसा करने से भी सिघ्र ही एक अछे वर की प्राप्ति होती है.

6. जब भी आप अपना नया घर बनाये तो घर में तुलसी के पौधे, देवता का चित्र, गंगाजल , गोमूत्र और पानी का कलश के साथ ही घर में प्रवेश करना चाहिए. क्योंकि इन सब से घर में शांति और ख़ुशी हमेशा बानी रहती है.

7. ऐसी भी मान्यता है की यदि पूर्व दिशा में खिड़की के पास तुलसी का पौधा रखने से आपकी संतान हमेशा ही आज्ञाकारी होती है.

8. अगर ऐसा है की आपके लाखो प्रयासों से भी आपका बिज़नस ठीक प्रकार से नहीं चल रहा है तो आपको किसी भी गुरुवार की श्याम को तुलसी के चारो और उगाई हुई खरपतवार को किसी पिले वस्त्र में बांधकर अपने व्यापर स्थान में किसी भी साफ़ स्थान पर रख दे. इससे व्यापर में गति आ जाएगी.

9. हमारे शास्त्रो में यह भी मान्यता है की मृत्यु के बाद उस शव के मुह में तुलसी के पत्ते डेल जाते है क्योंकि इससे मृतक को मोक्ष की प्राप्ति होती है.

10. तुलसी के पत्ते सदा ही पवित्र मने जाते है.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!