असुरक्षित यौन संबंधों में बरतें सावधानी

असुरक्षित यौन संबंधों में बरतें सावधानी Use caution in unprotected sex, asurakshit yon sambandho me barte savdhani

योन सम्बन्ध हमेशा ही अपनी जीवन साथी के साथ बनाने चाहिए, लेकिन आज के दौर में इंसानी बहुत ही स्वार्थी होता जा रहा है. कुछ लोगो में ऐसी भावना पायी जाती है, की वो घर से बाहर भी किसी और के साथ योन असुरक्षित यौन सम्बन्ध बना लेते है. जिस कारण से वो गंभीर बीमारी के शिकार हो जाते है. इसलिए हमेशा ही इस बात का ख्याल रखना चाहिए की यौन सम्बन्ध बनाते समय सावधानी बरतें. असुरक्षित यौन संबंधों के चलते कई बीमारियां फैल रही हैं.

इसके पीछे सबसे बड़ी वजह है जानकारी का अभाव. अधिकतर लोग सावधानियों के प्रति जागरुक नहीं होते. और इसी वजह से कई तरह की परेशानियों में घिर जाते हैं. असुरक्षित यौन संबंधों को लेकर लोगों में कई प्रकार की दुविधा होती है. सही स्रोतों से जानकारी के अभावों में युवा अक्सर इसे लेकर अनिश्चितता में रहते हैं. वह यही सोचते हैं कि यौन संबंधों का मतलब है सेक्स के दौरान सावधानियां बरतना. लेकिन वे यह भूल जाते हैं कि असुरक्षित यौन संबंधों का अर्थ है यौन संचारित रोगों को जानना, संक्रमण की संभावनाओं इत्यादि के बारे में जागरूक होना. आइए जानें असुरक्षित यौन संबंध आखिर है क्या.

इन्हे भी जाने…. गंजेपन का इलाज या गंजेपन रोकने के उपाय

इन्हे भी जाने…. थाईरायड ग्रथि से सम्बंधित रोग

इन्हे भी जाने…. शीघ्रपतन के घरेलू नुस्खे

इन्हे भी जाने…. प्रेगनेंसी मैं कोंन सी एक्सरसाइज करे

इन्हे भी जाने…. Kaan ya ears dard ka gherelu upchar

असुरक्षित यौन संबंध क्या होता है Asurakshit yon sambandh kya hota hai

असुरक्षित यौन संबंधों का अर्थ है, सेक्स के दौरान सावधानियां न बरतना.

इन्हे भी जाने…. सुंदरता पाने के घरेलू उपचार

इन्हे भी जाने…. सांवली त्वचा निखारने के घरेलू नुस्खे

इन्हे भी जाने…. रोके अपनी बढ़ती हुई उम्र की रफ़्तार को

इन्हे भी जाने…. नाखूनों को सुंदर बनाने के घरेलू उपचार और उपाय

इन्हे भी जाने…. पिंपल्स को हटाने के घरेलू नुश्खे

असुरक्षित यौन सम्बन्ध के कारण Asurakshit yon sambandh ke karan

  1. इन सावधानियों में जरूरी है कि सेक्स जोर-जबरदस्ती से न किया जाए.
  2. माहवारी के दौरान सेक्स करने से संक्रमण की संभावना बढ जाती है.
  3. एक से ज्यादा साथी फिर चाहे वह महिला हो या पुरूष के साथ संबंध बनाने से संक्रमण हो सकता है.
  4. असुरक्षित यौन संबंधों के दौरान यौन संचारित रोगों के होने का खतरा बना रहता है.
  5. बहुत अधिक कंट्रासेप्टिक पिल्स का सेवन, पहली बार सेक्स के दौरान कंडोम का सेवन न करना असुरक्षित यौन संबंधों के अंतगर्त आता है.
  6. प्रोफेशनल सेक्स वर्कर से संपर्क बनाने से भी संक्रमण की संभावना रहती है.
  7. सामूहिक रूप से सेक्स करना यानी एक ग्रुप में आपस में एक-दूसरे के साथ सेक्स करना भी असुरक्षित यौन संबंधों के अंतर्गत शामिल है.
  8. वाइफ स्वैपिंग यानी एक दूसरे के पार्टनर को एक रात के लिए बदलने से भी असुरक्षित यौन संबंधों का खतरा रहता है.
  9. पुरूष या महिला में से किसी को यौन संबंधी इंफेक्शेन होने से भी संक्रमण होने का खतरा बढ़ जाता है.
  10. ओरल सेक्स से भी इंफेक्शन होने का खतरा लगातार बरकरार रहता है. इसीलिए ओरल सेक्स में साफ-सफाई का खास ध्यान रखने की जरूरत होती है.
  11. सेक्स के दौरान, सेक्स से पहले खासतौर पर सावधानियां बरतनी आवश्यक हैं. असुरक्षित यौन संबंध के कारण होने वाली बीमारियों की सूची लंबी है, लेकिन थोड़े संयम और सावधानी अपनाकर इनसे बचा जा सकता है.

हम ये बिलकुल भी नहीं चाहेंगे की आपको किसी भी तरह की कोई भी परेशानी हो, इसलिए हम आपको सदा ही ऐसे घरेलु उचार देना चाहेंगे , जो की आपको अत्यधिक लाभ दे. ताकि आप एलोपेथी दवाईयों का इस्तेमाल कम से कम करे. क्योकि एलोपेथी दवाईयां हमारी बीमारी को तो ठीक कर देती है लेकिन ये हमारे शरीर को काफी मात्रा मैं नुकसान भी पहुँचती है. इसलिए हमे इन दवाइयों को ज्यादा से ज्यादा अवाइएड करना चाहिए यानि की कम से कम ही इन्हे खाना चाहिए. तो दोस्तों आपको हमारे द्वारा बताती गयी जानकारी किसी लगी हमे जरूर बताये. ताकि हम आपको अधिक से अधिक जानकारिया उपलब्ध कराये.

ये जो उपचार हमने आपको बताये है, ये आपके लिए काफी फायदेमंद है, लेकिन हम आपसे ये अनुरोध करते है की जो कुछ भी जानकारी हमने आपको दी है. उसे अपनी लाइफ मैं इस्तेमाल करने से पहले कम से कम एक बार हम ये चाहेंगे की आप अपने डॉक्टर की सलहा जरूर ले क्योकि हमे नहीं पता है की आपकी बॉडी यानी की आपका शरीर घरेलु उपचारो को अब्सॉर्वे करता है या नहीं करता है. इसलिए इन्हे प्रयोग करने से पहले एक बार अपने नजदीकी या फिर अपने घरे डॉक्टर की रॉय जरूर ले.

loading...

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!