आधे सिर में दर्द का इलाज कैसे करे

आधे सिर में दर्द का इलाज कैसे करे How to treat half-hearted pain, ser dard ka ilaj

Health tips in hindi

सिर दर्द लोगो के लिए बहुत बड़ी समस्या बनता जा रहा है. आज के दौर में ये समस्या सभी को होती जा रही है. चाहे उम्र कोई भी हो. आज का बच्चा भी सिर दर्द की समस्या बता देता है. इसलिए आज हम आपको इस रोग के बारे में कुछ उपचार बताने जा रहे है.

इन्हे भी जाने…. सुंदरता पाने के घरेलू उपचार

इन्हे भी जाने…. सांवली त्वचा निखारने के घरेलू नुस्खे

इन्हे भी जाने…. रोके अपनी बढ़ती हुई उम्र की रफ़्तार को

आधे सिर में दर्द रोग होने के लक्षण Aadhe ser me dard rog hone ke lakshan

  1. इस रोग से पीड़ित रोगी के सिर के आधे भाग में तेज दर्द होता है तथा सिर में दर्द होने के साथ-साथ रोगी को उल्टी होने की इच्छा भी होती है.
  2. इसके अलावा रोगी को चिड़चडाहट तथा दृष्टिदोष भी उत्पन्न होने लगता है.
  3. इस रोग का प्रभाव अधिकतर निश्चित समय पर होता है.

इन्हे भी जाने…. नाखूनों को सुंदर बनाने के घरेलू उपचार और उपाय

इन्हे भी जाने…. पिंपल्स को हटाने के घरेलू नुश्खे

इन्हे भी जाने…. गंजेपन का इलाज या गंजेपन रोकने के उपाय

आधे सिर में दर्द रोग होने का कारण Aadhe ser me dard rog hone ka karan

  1. आधे सिर में दर्द रोग रोगी व्यक्ति को दूसरे रोगों के फलस्वरूप हो जाता है जैसे- नजला, जुकाम, शरीर के अन्य अंग रोग ग्रस्त होना, पुरानी कब्ज आदि.
  2. स्त्रियों को यदि मासिकधर्म में कोई गड़बड़ी हो जाती है तो इसके कारण स्त्रियों को आधे सिर में दर्द हो जाता है.
  3. आंखों में दृष्टिदोष तथा अन्य रोग होने के कारण भी आधे सिर में दर्द हो जाता है.
  4. यकृत (जिगर) में किसी प्रकार की खराबी तथा शरीर में अधिक कमजोरी आ जाने के कारण व्यक्ति को आधे सिर में दर्द हो जाता है.
  5. असंतुलित भोजन का अधिक उपयोग करने के कारण रोगी को आधे सिर में दर्द हो सकता है.
  6. अधिक श्रम-विश्राम करने, शारीरिक तथा मानसिक तनाव अधिक हो जाने के कारण भी यह रोग व्यक्तियों को हो सकता है.
  7. औषधियों का अधिक उपयोग करने के कारण भी आधे सिर में दर्द हो जाता है.

इन्हे भी जाने…. थाईरायड ग्रथि से सम्बंधित रोग

इन्हे भी जाने…. शीघ्रपतन के घरेलू नुस्खे

आधे सिर में दर्द का उपचार Aadhe ser me dard ka upchar

  1. इस रोग से पीड़ित रोगी का प्राकृतिक चिकित्सा से इलाज करने के लिए सबसे पहले रोगी व्यक्ति को रसाहार (चुकन्दर, ककड़ी, पत्तागोभी, गाजर का रस तथा नारियल पानी) आदि का सेवन भोजन में करना चाहिए और इसके साथ-साथ उपवास रखना चाहिए.
  2. आधे सिर में दर्द से पीड़ित रोगी को अधिक मात्रा में फल, सलाद तथा अंकुरित भोजन करना चाहिए और इसके बाद सामान्य भोजन का सेवन करना चाहिए.
  3. रोगी व्यक्ति को अपने भोजन में मेथी, बथुआ, अंजीर, आंवला, नींबू, अनार, अमरूद, सेब, संतरा तथा धनिया अधिक लेना चाहिए.
  4. आधे सिर में दर्द से पीड़ित रोगी को भोजन संबन्धित गलत आदतों जैसे- रात के समय में देर से भोजन करना तथा समय पर भोजन न करना आदि को छोड़ देना चाहिए.
  5. रोगी व्यक्ति को मसालेदार भोजन का उपयोग नहीं करना चाहिए तथा इसके अलावा बासी, डिब्बाबंद तथा मिठाइयों आदि का सेवन भी नहीं करना चाहिए.
  6. आधे सिर में दर्द रोग में रोगी व्यक्ति को कुछ दिनों तक तुलसी के पत्तों का रस शहद के साथ सुबह के समय में चाटना चाहिए तथा इसके अलावा दूब का रस भी सुबह के समय में चाट सकते हैं. जिसके फलस्वरूप माइग्रेन रोग कुछ ही दिनों में ठीक हो जाता है.
  7. आधे सिर में दर्द का इलाज करने के लिए पीपल के कोमल पत्तों का रस रोगी व्यक्ति को सुबह तथा शाम सेवन करने के लिए देने के फलस्वरूप माइग्रेन रोग कुछ ही दिनों में ठीक हो जाता है.
  8. आधे सिर में दर्द रोग का इलाज करने के लिए रोगी व्यक्ति के माथे पर पत्ता गोभी का पत्ता प्रतिदिन बांधना चाहिए, जिसके फलस्वरूप यह रोग कुछ ही दिनों में ठीक हो जाता है.
  9. प्राकृतिक चिकित्सा के द्वारा नाक से भाप देकर रोगी व्यक्ति के माइग्रेन रोग को ठीक किया जा सकता है. नाक से भाप लेने के लिए सबसे पहल एक छोटे से बर्तन में गर्म पानी लेना चाहिए. इसके बाद रोगी को उस बर्तन पर झुककर नाक से भाप लेना चाहिए. इस क्रिया को कुछ दिनों तक करने के फलस्वरूप माइग्रेन रोग कुछ ही दिनों में ठीक हो जाता है.
  10. आधे सिर में दर्द रोग को ठीक करने के लिए कई प्रकर के स्नान भी हैं जिन्हे प्रतिदिन करने से रोगी व्यक्ति को बहुत अधिक लाभ मिलता है. ये स्नान इस प्रकार हैं- रीढ़स्नान, कुंजल, मेहनस्नान तथा गर्मपाद स्नान.
  11. आधे सिर में दर्द रोग का इलाज करने के लिए प्रतिदिन ध्यान, शवासन, योगनिद्रा, प्राणायाम या फिर योगासन क्रिया करनी चाहिए. इसके फलस्वरूप यह रोग कुछ ही दिनों में ठीक हो जाता है.

इन्हे भी जाने…. प्रेगनेंसी मैं कोंन सी एक्सरसाइज करे

इन्हे भी जाने…. Kaan ya ears dard ka gherelu upchar

loading...

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!