आप जानते है पेड़ भी आत्म हत्या करते हैं

आप जानते है पेड़ भी आत्म हत्या करते हैं

Aap jante hai ped bhi aatm hatya karte hai kya aap jante hai

क्या आप जानते हैं की इंसान की तरह ही पेड़ भी आत्म हत्या करते हैं. जी हां ये बात एक दम से सत्य बात हैं. पेड़ ही आत्म हत्या करते हैं. सुनने में ये बहुत आशचर्य लगता हैं, लेकिन ये सत्य हैं. उनके विचित्र व्यवहार और क्रिया-कलापों से वैज्ञानिक इसी नतीजे पर पहुंचे हैं कि वातावरण और जलवायु अनुकूल होने के बावजूद कुछ पेड-पौधे अनायास सूखकर नष्ट हो जाते हैं. अमेरिकी जीवविज्ञानियों के मुताबिक ‘टेकीगेलिया टी. वर्सीकोलर नामक वृक्ष बड़ी तेजी के साथ आत्महत्या कर रहे हैं. पिछले कई वर्षों से वैज्ञानिकों की टीम वर्सीकोलर वृक्ष की उपजाति पर शोध कार्य किया.

इन्हे भी पढ़े….

कड़वी बहु की कहानी मोटिवेशनल कहानी

जब हो गयी बेटी नाराज

गोलगप्पे की कहानी

हैरान कर देने वाली अध्भुत कहानी

सम्मान और प्यार की एक अद्भुत कहानी

शनि देव की हार

लक्ष्य की अनोखी कहानी

वैज्ञानिकों को इस वृक्ष से हर बार ऐसे रोचक तथ्य मिले कि उन्हें इसके विचित्र गुणों पर आश्चर्य होने लगा. शोध रिपोर्टो के अनुसार ये वृक्ष एक वर्ष के अंदर फलने-फूलने के बाद स्वत: ही गिरकर नष्ट हो जाते हैं. वैज्ञानिकों के दल ने सबसे पहले जब इस आश्चर्यजनक घटना को देखा, तो उन्होंने इस पर परीक्षण करने की योजना बनाई. वैज्ञानिकों के इस दल ने सन् 1970 में इस वृक्ष की उपजाति के 18 वृक्षों को पहली बार अपने परीक्षण के लिए चुना. वैज्ञानिकों ने इन वृक्षों की हर गतिविधि को सूक्ष्मता से परखा.

उन्होंने पाया कि एक वर्ष के भीतर वृक्षों पर खूब हरियाली छाई रही. वृक्षों में फूल खिले, फल लगे और बीज बने. जब बीज वायु द्वारा जमीन पर फैल गए और फूटे, तब वृक्षों में अचानक विचित्र परिवर्तन आने लगा. ज्यों-ज्यों नई पौध बढऩे लगी, पुराने व बूढ़े वृक्ष स्वत: गिरकर मरने लगे. वैज्ञानिकों ने पाया कि इस दौरान पुराने वृक्षों में किसी भी प्रकार की वृद्धि नहीं हुई तथा उनकी भोजन उत्पन्न करने वाली प्रणाली अनुकूल वातावरण के बावजूद शिथिल होती चली गई. इसके बाद वैज्ञानिकों के एक दल ने सन् 1974 में भी उसी वृक्ष की उपजाति के 85 वृक्षों का परीक्षण किया.

इन्हे भी पढ़े….

शैतानी आत्मा की सच्ची कहानी

सुजेल की अनहोनी दास्ताँ

पत्नी की भटकती आत्मा

खुनी जंगल की दास्ताँ

एक खतरनाक भेड़िये की कहानी

चुड़ैल और डायन का रहस्य

मौत उगलने वाला कुआ

फिर सब कुछ वैसा ही हुआ. ऐसा लगता था मानो इन वृक्षों की जड़ों में किसी ने तेजाब की भारी मात्रा डाल दी हो और जडें अपनी पकड़ खो बैठी हों. शोध रिपोर्ट के अनुसार ये वृक्ष एक वर्ष के अंदर फलने-फूलने के बाद स्वत: ही नष्ट हो जाते हैं. वैज्ञानिकों के दल ने सबसे पहले जब इस आश्चर्यजनक घटना को देखा, तो उन्होंने इस पर परीक्षण करने की योजना बनाई. आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी किसी लगी, हमे जरूर बताये.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!