कंधे दर्द का कारण लक्षण उपचार

कंधे दर्द का कारण लक्षण उपचार kandhe dard ka ilaj

यदि किसी को कंधे में दर्द की समस्या हो जाये, तो वो इंसान काफी परेशान हो जाता है. क्योकि ये हिस्सा इंसानी शरीर का एक महत्वपूर्ण हिस्सा होता है. इसलिए इसकी देखभाल करना बहुत ही जरूरी होता है. वैसे देखा जाए तो कंधों में आर्थराइटिस नहीं पाया जाता है. जब जोड़ों की सरंचना किसी कारण से प्रभावित होती है तो कंधे में दर्द होने लगता है. कंधे में दर्द (Shoulder pain) होने के कारण रोगी व्यक्ति को चलने-फिरने में भी परेशानी होने लगती है. कंधे सुन्न पड़ जाने की बीमारी 50 से 75 वर्ष की उम्र के स्त्री-पुरुषों में अधिक पाई जाती है. दर्द के कारण कंधा निष्क्रिय पड़ जाता है.

कंधे में दर्द होने के लक्षण kandhe me dard ke lakshan

1.इस रोग के कारण रोगी व्यक्ति के कंधे में दर्द होता है तथा उसका कंधा सुन्न पड़ जाता है.

2.रोगी को कंधे में अकड़न भी होने लगती है और जब दर्द तेज हो जाता है तो रोगी व्यक्ति को नींद भी नहीं आती है.

कंधे में दर्द होने का कारण kandhe me dard hone ke karan

कंधे के जोड़ तथा इसकी संरचनाओं का तन्त्रिका वितरण मुख्य रूप में पांचवी ग्रीवा-मूल के माध्यम से होता है जो ग्रीवा-कशेरुका से निकलती है. यह कंधे की जड़ तथा ऊपरी बांह के ऊपर फैली हुई त्रिकोणिका मांसपेशी के क्षेत्र में निहित होती है इसलिए अधिकतर इसमें दर्द महसूस होता रहता है.

इन्हे भी जाने…. सुंदरता पाने के घरेलू उपचार

इन्हे भी जाने…. सांवली त्वचा निखारने के घरेलू नुस्खे

इन्हे भी जाने…. रोके अपनी बढ़ती हुई उम्र की रफ़्तार को

इन्हे भी जाने…. नाखूनों को सुंदर बनाने के घरेलू उपचार और उपाय

इन्हे भी जाने…. पिंपल्स को हटाने के घरेलू नुश्खे

इन्हे भी जाने…. गंजेपन का इलाज या गंजेपन रोकने के उपाय

इन्हे भी जाने…. थाईरायड ग्रथि से सम्बंधित रोग

इन्हे भी जाने…. शीघ्रपतन के घरेलू नुस्खे

इन्हे भी जाने…. प्रेगनेंसी मैं कोंन सी एक्सरसाइज करे

कंधे में दर्द का उपचार kandhe me dard ka upchar

1.कंधे के दर्द को ठीक करने के लिए रोगी व्यक्ति को सबसे पहले अपने कंधे की मालिश करानी चाहिए तथा गर्म व ठंडी सिंकाई करवानी चाहिए ताकि यदि कंधे के पास की रक्त कोशिकाओं में रक्त जम गया हो तो उस स्थान पर रक्त का संचारण हो सके. इसके फलस्वरूप कंधे का दर्द ठीक हो जाता है.

2.रोगी के कंधे के दर्द से प्रभावित भाग को सूर्य की किरणों के पास करके सिंकाई करनी चाहिए क्योंकि सूर्य की पराबैंगनी किरणों में दर्द को ठीक करने की शक्ति होती है. फिर रोगी व्यक्ति को कंधे पर ठंडी सिंकाई करनी चाहिए तथा इसके बाद उस पर मिट्टी की पट्टी का लेप करना चाहिए. इसके फलस्वरूप कंधे के दर्द का रोग ठीक हो जाता है.

3.रोगी व्यक्ति को रात के समय में कम से कम 1 घण्टे तक ठंडा लेप कंधे पर करना चाहिए. इसके फलस्वरूप कंधे का दर्द तथा अकड़न ठीक हो जाती है. इस रोग को ठीक करने के लिए रोगी व्यक्ति को सुबह के समय में व्यायाम करने से लाभ होता है.

4.इस रोग से पीड़ित रोगी को मांस, मछली तथा अन्य मांसाहारी चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए.

जानकारी jankkari

इस प्रकार से प्राकृतिक चिकित्सा से उपचार करने से रोगी व्यक्ति का कंधे का दर्द ठीक हो जाता है.

हम ये बिलकुल भी नहीं चाहेंगे की आपको किसी भी तरह की कोई भी परेशानी हो, इसलिए हम आपको सदा ही ऐसे घरेलु उचार देना चाहेंगे , जो की आपको अत्यधिक लाभ दे. ताकि आप एलोपेथी दवाईयों का इस्तेमाल कम से कम करे. क्योकि एलोपेथी दवाईयां हमारी बीमारी को तो ठीक कर देती है लेकिन ये हमारे शरीर को काफी मात्रा मैं नुकसान भी पहुँचती है. इसलिए हमे इन दवाइयों को ज्यादा से ज्यादा अवाइएड करना चाहिए यानि की कम से कम ही इन्हे खाना चाहिए. तो दोस्तों आपको हमारे द्वारा बताती गयी जानकारी किसी लगी हमे जरूर बताये. ताकि हम आपको अधिक से अधिक जानकारिया उपलब्ध कराये.

ये जो उपचार हमने आपको बताये है, ये आपके लिए काफी फायदेमंद है, लेकिन हम आपसे ये अनुरोध करते है की जो कुछ भी जानकारी हमने आपको दी है. उसे अपनी लाइफ मैं इस्तेमाल करने से पहले कम से कम एक बार हम ये चाहेंगे की आप अपने डॉक्टर की सलहा जरूर ले क्योकि हमे नहीं पता है की आपकी बॉडी यानी की आपका शरीर घरेलु उपचारो को अब्सॉर्वे करता है या नहीं करता है. इसलिए इन्हे प्रयोग करने से पहले एक बार अपने नजदीकी या फिर अपने घरे डॉक्टर की रॉय जरूर ले.

loading...

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!