कैलाश पर्वत का रहस्य

कैलाश पर्वत का रहस्य

आज हम आपको कैलाश पर्वत के बारे मैं कुछ बतायेगे. जिनका आपको जानना बेहद ही जरूरी है. इस एतिहासिक पर्वत को आज तक हम सनातनी और भारतीय लोग शिव का वास स्थान मानते हैं. शास्त्रों में यही लिखा है कि कैलाश पर शिव का वास है. किन्तु वहीँ वैज्ञानिक संस्था के लिए कैलाश एक मयी जगह है. वैज्ञानिक के साथ-साथ कई रूसी वैज्ञानिकों ने कैलाश पर्वत पर अपनी रिपोर्ट पेश की है. सभी का मानना है कि कैलाश वाकई कई अलौकिक शक्तियों का केंद्र है. विज्ञान यह दावा तो नहीं करता है कि यहाँ शिव देखे गये हैं किन्तु यह सभी मानते हैं कि यहाँ कई पवित्र शक्तियां जरुर काम कर रही हैं.

अब हम आपको कैलाश पर्वत के बारे मैं कुछ बतायेगे. जो की इस प्रकार है.

1– रूस के वैज्ञानिको का ऐसा मानना है कि कैलाश पर्वत आकाश और धरती के साथ इस तरह से केंद्र में है जहाँ चारों दिशाएँ मिल रही हैं. वहीँ रूसी विज्ञान का दावा है कि यह स्थान एक्सिस मुंडी है और इसी स्थान पर व्यक्ति अलौकिक शक्तियों से आसानी से संपर्क कर सकता है. धरती पर यह स्थान सबसे अधिक शक्तिशाली स्थान है.

2- दावा किया जाता है कि आज तक कोई भी व्यक्ति कैलाश पर्वत के शिखर पर नहीं पहुच पाया है. वहीँ 11 सदी में तिब्बत के योगी मिलारेपी के यहाँ जाने का दावा किया जाता है किन्तु इस योगी के पास इस बात के सबूत नहीं थे या फिर वह खुद सबूत पेश नहीं करना चाहता था इसलिए यह भी है कि इन्होनें यहाँ कदम रखा या फिर वह कुछ बताना नहीं चाहते थे.

3- कैलाश पर्वत पर दो झीलें हैं और यह दोनों ही बनी हुई हैं. आज तक इनका भी कोई खोज नहीं पाया है. एक झील साफ़ और पवित्र जल की है. इसका आकार सूर्य के बराबर बताया गया है. वहीँ दूसरी झील अपवित्र और गंदे जल की है तो इसका आकार चन्द्रमा के समान है. ऐसा कैसे हुआ है यह भी कोई नहीं जानता है.

4- अब यहाँ के आध्यात्मिक और शास्त्रों के अनुसार की बात करें तो कैलाश पर्वत पर कोई भी व्यक्ति शरीर के साथ उच्चतम शिखर पर नहीं पहुच सकता है. ऐसा बताया गया है कि यहाँ देव लोग आज भी वास करते हैं. पवित्र संतों की आत्माओं को ही यहाँ वास करने का अधिकार दिया गया है.

5- कैलाश पर्वत का एक यह भी बताया जाता है कि जब कैलाश पर बर्फ पिघलती है तो यहाँ से डमरू जैसी आवाज आती है. इसे कई लोगों ने सुना है. लेकिन इस को आज तक कोई हल नहीं कर पाया है.

6– कई बार कैलाश पर्वत पर सात तरह की लाइट आसमान में देखी गयी है. वैज्ञानिक का ऐसा मानना है कि यहाँ चुम्बकीय बल है और आसमान से मिलकर वह कई बार इस तरह की चीजों का निर्माण करता है.

7- कैलाश पर्वत दुनिया के 4 मुख्य धर्म का केंद्र माना गया है. यहाँ कई साधू और संत अपने देवों से टेलीपेथी तकनीक से संपर्क करते हैं. असल में यह आध्यात्मिक संपर्क होता है.

8- कैलाश पर्वत का सबसे बड़ा खुद विज्ञान ने साबित किया है कि यहाँ प्रकाश और ध्वनी की बीच इस तरह का समागम होता है कि यहाँ से ॐ की आवाजें सुनाई देती हैं.

अब जाना अपने दोस्तों की ये कैलाश पर्वत कितने रहस्य अपने दिल मैं छुपे बैठा है. ये बहुत ही अनोखा पर्वत है भारत का.

loading...

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!