खुजली को दूर करने के घरेलु उपाय

खुजली को दूर करने के घरेलु उपाय khujli ko dur karne ke upay

खुजली कई प्रकार से हो सकती है. ये एक बड़ी समस्या है, क्योकि जब ये किसी को होती है, तो उसका उठना और बैठना बहुत ही मुश्किल हो जाता है. खाज खुजली एक त्वचा रोग है जोकि सरकाप्टस नामक परजीवी के कारण होती है . ये 3.0 मिली मीटर सूक्ष्म कीट होते है जिन्हें घुन कहा जाता है . मादा परजीवी संक्रमण के 2-3 घंटे के भीतर त्वचा के नीचे बिल बनाता है और 2-3 अंडे रोज देता है . 10 दिनों के अंदर अंडे से बच्चे निकलते है और वयस्क कीट बन जाते है . खुजली एक संक्रामक रोग है जोकि एक अपेक्षाकृत छोटे घुन (सरकाप्टस स्क्ैबी) के द्वारा संक्रमण के कारण होती है.

प्रसार parsar

1.इस का फैलाव एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति के त्वचा के नजदीकी संपर्क से होता है, यह संभवत: तब होता है जब विवाहित रात गुजारते है . इसका संक्रमण बिस्तर, कपड़ों या दैनिक व्यवहार जैसे हाथ मिलाना आदि से भी होता है.

2.मादा घुन त्वचा के नीचे दो तीन अण्डे रोज देती है . दस दिन के भीतर अण्डे से घुन निकलते है जो कि व्यस्क घुन बन जाते है. लगभग चार हप्तों में मुख्यत: खुजलाहट जैसे लक्षण सामने आते है जोकि अविकसित घुन की वजह से उत्पन्न होते है .

3.खाज खुजली से ग्रसित व्यक्ति तब तक संक्रमित कहलाता है इम तक उसका इलाज नहीं होता . उसके कपड़े और बिस्तर भी तभी तक संक्रमित रहते है . इलाज के बाद फिर से वह व्यक्ति संबंध बना सकता है.

खुजली के लक्षण khujli ke lakshan

1.घुन के लाल भूरे रंग के पिंडों की बिलों या घावों में उपस्थिति लगातार खुजली का कारण बनती है .

2.खुजली रातों की नींद खराब करने के लिए भी जानी जाती है .

3.लगभग हमेशा तीव्र खुजली की वजह त्वचा के भीतर खुजली की एक प्रतिक्रिया के कारण होना है .

4.पहली बार किसी को खुजली से संक्रमित होने पर चार से छह सप्ताह के तक उसे मालूम ही नहीं हो पाता कि उसे खुजली भी है .

5.बाद में संक्रमण से पहली घुन के साथ खुजली एक घंटे के भीतर शुरू हो जाती है .

6.हालांकि घुन मानव त्वचा से केवल तीन दिनों के लिए दूर रह सकते हैं, कपड़े या सोने का बिस्तर को साझा करने से परिवार के सदस्य या निकट संपर्क में आने वालों के साथ खुजली उन्हें भी फैल सकती हैं.

इन्हे भी जाने…. सुंदरता पाने के घरेलू उपचार

इन्हे भी जाने…. सांवली त्वचा निखारने के घरेलू नुस्खे

इन्हे भी जाने…. रोके अपनी बढ़ती हुई उम्र की रफ़्तार को

इन्हे भी जाने…. नाखूनों को सुंदर बनाने के घरेलू उपचार और उपाय

इन्हे भी जाने…. पिंपल्स को हटाने के घरेलू नुश्खे

इन्हे भी जाने…. गंजेपन का इलाज या गंजेपन रोकने के उपाय

इन्हे भी जाने…. थाईरायड ग्रथि से सम्बंधित रोग

इन्हे भी जाने…. शीघ्रपतन के घरेलू नुस्खे

इन्हे भी जाने…. प्रेगनेंसी मैं कोंन सी एक्सरसाइज करे

खुजली होने के स्थान khujli hone ke sthan

1.हाथ की उंगलियों और पैर की उंगलियों की झिल्ली

2.जघन और कमर क्षेत्र

3.कांख

4.कोहनी और घुटने

5.कलाई

6.नाभि

7.स्तन

8.नितंबों के निचले हिस्से

9.लिंग और अंडकोश की थैली

10.कमर और पेट के आस पास

11.हाथ और पैरों के तलवों

12.हथेलियों के ऊपर होती हैं

13.गर्दन के ऊपर भी

घुनों के कणों की भारी संख्या के साथ (लाखों – हजारों की संख्या) संक्रमण तब होता है जब एक व्यक्ति खरोंच नहीं करता है या जब एक व्यक्ति की एक कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली होती है . इन रोगियों में वे लोग शामिल हैं जिन पर दवाओं की प्रतिक्रिया होती है, जिन्होनें कैंसर के लिए कीमोथेरपी उपचार करवाया हो, अंग प्रत्यारोपित के बाद दवाओं को ले रहे हैं, मानसिक रूप से मंद, या शारीरिक रूप से कमजोर हो, लेकिमिया या मधुमेह जैसे अन्य रोगों या जो जिनकी प्रतिरक्षा कम है या वे जिन्हें अन्य रोग (जैसे एक्वायर्ड इम्यूनो सिंड्रोम या एड्स के रूप में) है. खुजली के इस रूप का संक्रपण तहवाली खुजली या नार्वेजियन खुजली के रूप में जाना जाता है. संक्रमित रोगियों की त्वचा मोटी और पूरे शरीर के साथ सिर पर परतदार त्वचा हो जाती है .

खुजली रोग का निदान khujli rog ka nidan

खुजली की पहचान घुन की गतिविधियों को देखकर की जाती है . कीटाणुरहित सुई को घुन के बिल के अंत में रखकर उसे स्लाइड के नीचे देखा जाता है . घुन को भी सूक्ष्मदर्शी के नीचे पहचाना जाता है .

खुजली का उपचार khujli ka upchar

विभिन्न प्रकार के मल्हम (जिसमे 5% परमिथरिन होती है) शरीर पर लगाकर 12-24 घण्टों के लिए छोडा जाता है . एक बार ऐसा करना पर्याप्त है लेकिन यदि घुन अभी उपस्तिथ है तो इस प्रक्रिया को एक सप्ताह के बाद दोहराया जाता है. मल्हम या एंटीहिसटामिन औषिधि से खुजली को कम किया जाता है .

खुजली से बचाव khujli se bachav

1.खाज खुजली से बचने के लिए अच्छी साफ सफाई जरूरी है.

2.रोज स्नान, स्वच्छ कपड़े, दूसरे वयक्ति के इस्तेमाल किये हुए कपड़े नहीं पहनने चाहिए .

3.परिवार के सभी सदस्यों को एक साथ उपचार लेना चाहिए.

4.जब घर का कोई व्यक्ति खाज खुजली से संक्रमित हो तो उसके कपड़े, बिस्तर को गर्म पानी में धोकर सूरज की रोशनी में सुखाना चाहिए.

हम ये बिलकुल भी नहीं चाहेंगे की आपको किसी भी तरह की कोई भी परेशानी हो, इसलिए हम आपको सदा ही ऐसे घरेलु उचार देना चाहेंगे , जो की आपको अत्यधिक लाभ दे. ताकि आप एलोपेथी दवाईयों का इस्तेमाल कम से कम करे. क्योकि एलोपेथी दवाईयां हमारी बीमारी को तो ठीक कर देती है लेकिन ये हमारे शरीर को काफी मात्रा मैं नुकसान भी पहुँचती है. इसलिए हमे इन दवाइयों को ज्यादा से ज्यादा अवाइएड करना चाहिए यानि की कम से कम ही इन्हे खाना चाहिए. तो दोस्तों आपको हमारे द्वारा बताती गयी जानकारी किसी लगी हमे जरूर बताये. ताकि हम आपको अधिक से अधिक जानकारिया उपलब्ध कराये.

ये जो उपचार हमने आपको बताये है, ये आपके लिए काफी फायदेमंद है, लेकिन हम आपसे ये अनुरोध करते है की जो कुछ भी जानकारी हमने आपको दी है. उसे अपनी लाइफ मैं इस्तेमाल करने से पहले कम से कम एक बार हम ये चाहेंगे की आप अपने डॉक्टर की सलहा जरूर ले क्योकि हमे नहीं पता है की आपकी बॉडी यानी की आपका शरीर घरेलु उपचारो को अब्सॉर्वे करता है या नहीं करता है. इसलिए इन्हे प्रयोग करने से पहले एक बार अपने नजदीकी या फिर अपने घरे डॉक्टर की रॉय जरूर ले.

loading...

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!