बच्चे को दूध पिलाने का तरीका

बच्चे को दूध पिलाने का तरीका bacche ko doodh pilane ka tarika, chote bache ko dudh kese pilaye

ये जरूरी नहीं होता है की जो महिला माँ बने उसे नवजात बच्चे की देखभाल करने के सही तरीका आता हो. बहुत सी महिलाये ऐसी होती है, जिन्हे सही से बच्चे को खाना खिलाना और दूध पिलाना तक का ज्ञान नहीं होता है और वो बच्चे को गलत तरीके से खान पान कराकर उसे बीमार कर देती है. लेकिन आज हम आपको एक नवजात बच्चे को सही तरीके से दूध पिलाने का सही तरीके के बारे में बताने जा रहे है.

प्रसूता (बच्चे को जन्म देने वाली स्त्री) स्त्री को, बुखार या पेट के विकारों (जो अक्सर प्रसूता को हो जाते हैं जैसे पेट का फूलना, पतले दस्त होना, पेट में दर्द होना, अग्निमान्द्य यानी भूख का कम होना आदि) में नवजात शिशुओं को दूध नहीं पिलाना चाहिए क्योंकि इस अवस्था का दूध दूषित हो जाता है.

इससे बच्चों का स्वास्थ्य खराब हो जाता है. माता गर्भवती हो तो उस अवस्था में भी बच्चों को दूध नहीं पिलाना चाहिए क्योंकि गर्भवती स्त्री का दूध पीने से बच्चों के पेट में डब्बा, तिल्ली आदि रोग हो जाते हैं. वर्तमान समय में जो बच्चे कमजोर दिखाई पड़ते हैं.

उनका कारण भी यही है. इसलिए गर्भवती या रोगिणी माता का दूध बच्चे को पिलाना बंद कर दें, यदि दाई (धाय) न मिले तो बकरी या गाय का दूध पिलाना चाहिए. बच्चे को उसकी माता का दूध पिलाना बंद कर देने से 2-4 दिनों में स्तन में दूध जमा होकर माता को अधिक कष्ट मिलता है. वह दूध हाथ से या दूध निकालने वाले यंत्र से सुविधा अनुसार निकाल दें. कुछ दिनों के बाद दूध आना अपने आप ही बंद होता है.

इन्हे भी जाने…. सुंदरता पाने के घरेलू उपचार

इन्हे भी जाने…. सांवली त्वचा निखारने के घरेलू नुस्खे

इन्हे भी जाने…. रोके अपनी बढ़ती हुई उम्र की रफ़्तार को

इन्हे भी जाने…. नाखूनों को सुंदर बनाने के घरेलू उपचार और उपाय

इन्हे भी जाने…. पिंपल्स को हटाने के घरेलू नुश्खे

इन्हे भी जाने…. गंजेपन का इलाज या गंजेपन रोकने के उपाय

इन्हे भी जाने…. थाईरायड ग्रथि से सम्बंधित रोग

इन्हे भी जाने…. शीघ्रपतन के घरेलू नुस्खे

इन्हे भी जाने…. प्रेगनेंसी मैं कोंन सी एक्सरसाइज करे

इन्हे भी जाने…. Kaan ya ears dard ka gherelu upchar

हम ये बिलकुल भी नहीं चाहेंगे की आपको किसी भी तरह की कोई भी परेशानी हो, इसलिए हम आपको सदा ही ऐसे घरेलु उचार देना चाहेंगे , जो की आपको अत्यधिक लाभ दे. ताकि आप एलोपेथी दवाईयों का इस्तेमाल कम से कम करे. क्योकि एलोपेथी दवाईयां हमारी बीमारी को तो ठीक कर देती है लेकिन ये हमारे शरीर को काफी मात्रा मैं नुकसान भी पहुँचती है.

इसलिए हमे इन दवाइयों को ज्यादा से ज्यादा अवाइएड करना चाहिए यानि की कम से कम ही इन्हे खाना चाहिए. तो दोस्तों आपको हमारे द्वारा बताती गयी जानकारी किसी लगी हमे जरूर बताये. ताकि हम आपको अधिक से अधिक जानकारिया उपलब्ध कराये.

ये जो उपचार हमने आपको बताये है, ये आपके लिए काफी फायदेमंद है, लेकिन हम आपसे ये अनुरोध करते है की जो कुछ भी जानकारी हमने आपको दी है. उसे अपनी लाइफ मैं इस्तेमाल करने से पहले कम से कम एक बार हम ये चाहेंगे की आप अपने डॉक्टर की सलहा जरूर ले क्योकि हमे नहीं पता है की आपकी बॉडी यानी की आपका शरीर घरेलु उपचारो को अब्सॉर्वे करता है या नहीं करता है. इसलिए इन्हे प्रयोग करने से पहले एक बार अपने नजदीकी या फिर अपने घरे डॉक्टर की रॉय जरूर ले.

loading...

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!