महामृत्युंजय मंत्र

महामृत्युंजय मंत्र

दोस्तों अगर आप भगवन शिव जी के महामृत्युजय मन्त्र की आराधना निरंतर करगें तो आपके घर मैं कभी कलेश नहीं होगा और आप सदा ही खुश रहेगे और आपके घर मैं बहुत खुशहाली भी आएगी.

|| महामृत्युंजय मंत्र ||

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।
उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥

महामृत्युंजय मंत्र का अर्थ

हम तीन नेत्र वाले भगवान शंकर की पूजा करते हैं जो प्रत्येक श्वास में जीवन शक्ति का संचार करते हैं, जो सम्पूर्ण जगत का पालन-पोषण अपनी शक्ति से कर रहे हैं, उनसे हमारी प्रार्थना है कि जिस प्रकार एक ककड़ी अपनी बेल में पक जाने के उपरांत उस बेल-रूपी संसार के बंधन से मुक्त हो जाती है, उसी प्रकार हम भी इस संसार-रूपी बेल में पक जाने के उपरांत जन्म-मृत्यु के बंधनों से सदा के लिए मुक्त हो जाएं तथा आपके चरणों की अमृतधारा का पान करते हुए शरीर को त्यागकर आप ही में लीन हो जाएं और मोक्ष प्राप्त कर लें।

loading...

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!