मौत उगलने वाला कुआ

मौत उगलने वाला कुआ Maut ugaalne wala kuaa

ये कहानी है अम्बोली गांव मैं बहुत ही पुराने बने कुए की, जिसे गांव वाले मौत का कुआ कहने लग गए थे. ऐसा यहाँ के रहने वाले लोगो द्वारा बताया गया था. लेकिन एक दिन उस कुंवे से पानी भरते हुए एक औरत उस कुंवे में अपनी गोद मैं एक छोटे से बच्चे के साथ गिर गयी और उस वक़्त वहा कोई भी मौजूद नहीं था और वो तड़प तड़प कर अपने बच्चे के साथ उस कुए में मर गयी . तब से उस औरत की आत्मा आते जाते राहगीरों को परेशान करने लगी और धीरे धीरे उस कुंवे के पास से बस्ती उजाड़ होने लग गयी .

एक रात एक शराबी उस कुंवे के पास से गुजरा और उसे किसी के चीखने की आवाज़ आयी . वो कुंवे के पास गया और कुंवे में झाँका तो उसे एक औरत और एक बच्चा दिखाई दी . उस औरत ने उस शराबी को कहा कि तुम मुझे इस कुंवे से बाहर निकाल दो . शराबी ने कहा कि तुम इस कुंवे में कैसे गिर गयी . उस औरत ने कहा अगर तुम्हे ये जानना है तो तुम्हे नीचे आना पड़ेगा . शराबी घबरा गया और भागने की कोशिश की लेकिन उसी समय उस औरत ने पीछे से धक्का मारकर उस शराबी को कुंवे में धकेल दिया और वो शराबी कुंवे में डूबकर मर गया .

उस दिन के बाद आस पास के कई सरे लोग उस औरत का शिकार बनते चले गए. इसी तरह से धीरे धीरे वहा सब उजड़ता हुआ चला गया. शायद आप इस पर विश्वास करे या ना करे लेकिन हमारे गांव में मौत के कुए की इन घटनाओ का जिक्र आये दिन होता रहता है जो की सच की एक कड़वी दास्ताँ है. जो न तो हमारे लिए निगलती बनती है और न ही उगलते बनती है. यहाँ के लोग अपना जीवन इसी दहसत मैं जीते है की ना जाने कब मौत उन्हें भी अपने आगोश मैं ले ले.

loading...

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!