रक्षा करने वाला भूत

रक्षा करने वाला भूत Raksha kaarne wala bhoot

वैसे तो अपने दोस्तों हमेशा से ही भूतो को नुकसान पहुंचाने की बात सुनी होगी. लेकिन क्या आपने कभी भी ऐसा कुछ सुना है की कोई भूत नुस्क्सान नहीं पहुंचाता, बल्कि अपने गांव के लोगो की रक्षा करता है. जी हां आज मैं आपको एक ऐसे ही भूत की कहानी सुनाने जा रहा. मेरा नाम आदेश है और मैं दिल्ली का रहने वाला हु. ये बात है प्रतापगढ़ गांव की जहा पर लोगो का ऐसा मानना है की वहाँ गांव मैं एक भूत एक पेड़ पर वास करता है और वो किसी भी आने जाने वाली इंसान को हानि नहीं करता है. बल्कि उसकी दुसरो से रक्षा करता है. बहुत पुरानी बात है इस गांव मैं एक जमींदार रहता था जो की अपने गांव मैं रहने वाले लोगो पर अत्याचार न करके बल्कि उनकी हर तरह से सेवा और उनकी मदद करता था. उसने अपनी पूरी जमींदारी मैं कभी भी किसी को कोई भी दुख नहीं दिया, तभी लोग उसे अपना धरती पर भगवन मानते थे. साथ ही उसकी पूजा भी किया करते थे.

जमींदार अपने गांव मैं हर त्यौहार पर मेला लगाता था और सभी गांव वालो को अपनी तरफ से खाने का न्योता भी देता था. सभी लोग बड़े ही खुश रहते थे. लेकिन एक दिन उस गांव मैं कुछ ऐसा घटा की तब से गांव वालो की पूरी ज़िन्दगी ही बदल गयी. एक दिन जमींदार के घर मैं कुछ डकैत घुस गए और उन्होंने जमींदार और उसके सभी घर वालो की हत्या कर दी और साथ ही सारा जेवर और पैसा लूट कर भाग गए. तब से आज तक कभी भी उस गांव मैं ना तो कोई मेला लेगा और ना ही कभी कोई त्यौहार ही मनाया गया. लेकिन जमींदार की आत्मा उस गांव से दूर ना हो पायी और वो गांव की सीमा पर लगे एक पीपल के पेड़ पर बेथ गयी सदा के लिए. जमींदार की आत्मा ना तो किसी को परेशान करती है और ना ही किसी को कभी कोई नुकसान ही पहुँचती है.

लेकिन जब भी गांव के किसी आदमी पर कोई भी समस्या आती है तो वो उसे दूर करती है. तभी लोगो का ये माना है की जमींदार की आत्मा एक पवित्र आत्मा है , इसलिए गांव के लोग भगवन के साथ साथ उस जमींदार की आत्मा की भी पूजा करते है. एक बार गांव मैं एक पंडित आये और उन्होंने कहा की अगर तुम सब जमींदार की आत्मा को यहाँ से भागना चाहते हो तो मैं तुम्हारी मदद कर सकता हु. लेकिन गांव वालो ने उस बाबा या पंडित को कहा की ये आत्मा एक पवित्र आत्मा है जो की हमे कभी भी नुकसान नहीं पहुँचाती है बल्कि ये तो हमारी रक्षा करती है. तब बाबा या पंडित ने सोचा की गांव वालो को कैसे बेवकूफ बनाया जाये. तब उसने सोचा की कुछ करते है जिससे इन् लोगो को पागल बनाया जय और कुछ दान या पैसा इनसे हड़पा जाए.

तो उसने लोगो को नुकसान पहुंचना शुरू करवा दिया. और दिखाया की ये सब तुम्हारे जमींदार की आत्मा कर रही है. लोगो को उस पर विस्वास होने लगा और वो उस आत्मा से छुटकारा पाने के लिए पंडित को पैसा और बहुत कुछ देने लग गए. लेकिन जब एक दिन गांव के सरपंच को सपने मैं जमींदार ने आकर सब कुछ पंडित के बारे मैं बताया तो उन्होंने जाँच की तो पता चेला की ये सब तो पंडित का काम है तब सभी गांव वालो ने मिलकर पंडित की खूब पिटाई की और अपने गांव से निकल दिया और फिर से सभी गांव वाले सुखी पूर्ण रहने लग गए. वाकई मैं एहि एक ऐसी आत्मा है जो की अपने सभी लोगो की रक्षा करती है, ना की उन्हें किसी भी प्रकार का नुक्सान पहुँचाती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!