रसोली का इलाज

स्तनों में रसोली की समस्या होना breast me rasoli ki samasya ka hona rasoli ka ilaj hindi me

रसोली के बारे में तो आप जानते ही होंगे, ये एक प्रकार का रोग होता है. जो की किसी को भी हो सकता है. रसोली एक गांठ की तरह होता है. ये महिलाओ के स्तनों में भी हो सकता है. ये शुरुआत में एक छोटी सी गांठ की तरह होता है. पर समय के साथ-साथ आकार में बढ़ती जाती है. इसमें दर्द रहता है. कभी-कभी यह दर्द बहुत अधिक बढ़ जाता है.

रसोली का इलाज Rasoli ka ilaj

1.एरण्ड

एरण्ड के तेल से स्त्री के स्तनों की मालिश करें और एरण्ड के पत्तों को स्तन पर बांधने से स्तन में होने रसूली (गांठें, गिल्टी) धीरे-धीरे कम होकर समाप्त हो जाती हैं. साथ ही साथ स्तनों के आकार में बढ़ोत्तरी होती जाती है.

2.बड़ी हर्रे

बड़ी हर्रे, छोटी पीपल और रोहितक की छाल को लेकर पकाकर काढ़ा बना लें, फिर इसी काढ़े में यवक्षार एक चौथाई से आधा ग्राम की मात्रा में मिलाकर सुबह-शाम पीने से स्तनों में होने वाली रसूली या गांठें मिट जाती हैं.

3.सज्जी खार

सज्जीखार, सुहागे की खील (लावा) और यवक्षार को बराबर मात्रा में लेकर अच्छी तरह पीसकर चूर्ण बना लें, फिर इसी चूर्ण को आधा से एक ग्राम तक की मात्रा में सुबह-शाम प्रयोग करने से लाभ मिलता है.

4.नीम

नीम के तेल और तिल के तेल को बराबर मात्रा में लेकर मालिश करने से स्तनों में होने वाली गांठे कम होकर मिट जाती हैं. परन्तु ध्यान रहें कि केवल नीम के तेल से स्तनों की मालिश करने से स्तनों में जलन आदि के पैदा होने का डर सा लगा रहता है.

5.सरफोंका

सरफोंका की जड़ को अच्छी तरह पीसकर स्तनों पर लेप करने से स्तनों में होने वाली गांठे यानी रसूली का असर कम होकर नष्ट हो जाती है.

6.कचनार

कचनार की छाल को पीसकर चूर्ण बनाकर रख लें, फिर इसी चूर्ण को एक चौथाई ग्राम से आधा ग्राम की मात्रा में सोंठ और चावल के पानी (धोवन) के साथ मिलाकर पीने और स्तनों पर लेप करने से स्तनों की गांठों में लाभ मिलता है.

इन्हे भी जाने…. सुंदरता पाने के घरेलू उपचार

इन्हे भी जाने…. सांवली त्वचा निखारने के घरेलू नुस्खे

इन्हे भी जाने…. रोके अपनी बढ़ती हुई उम्र की रफ़्तार को

इन्हे भी जाने…. नाखूनों को सुंदर बनाने के घरेलू उपचार और उपाय

इन्हे भी जाने…. पिंपल्स को हटाने के घरेलू नुश्खे

इन्हे भी जाने…. गंजेपन का इलाज या गंजेपन रोकने के उपाय

इन्हे भी जाने…. थाईरायड ग्रथि से सम्बंधित रोग

इन्हे भी जाने…. शीघ्रपतन के घरेलू नुस्खे

इन्हे भी जाने…. प्रेगनेंसी मैं कोंन सी एक्सरसाइज करे

इन्हे भी जाने…. Kaan ya ears dard ka gherelu upchar

7.गोरखमुण्डी

गोरखमुण्डी के पंचांग (फल, जड़, तना, फूल और पत्तों) के रस को 10 से लेकर 20 मिलीलीटर तक खुराक के रूप में सुबह-शाम पीने से स्तनों में आने वाली गिल्टी (गांठें) कम होकर समाप्त हो जाती हैं.

loading...

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!