लंदन के एक टावर में आत्माओ का राज

लंदन के एक टावर में आत्माओ का राज

London ke ek tower me aatmao ka raj real ghost stories in hindi

भूतो से सम्बंधित आज में आपको एक ऐसे टावर की दास्तान सुनाने जा रहा हु, जो की लंदन में स्थित है. जी हां ये बात एक दम से सत्य है की इस टावर में भूतो का वास है. यहाँ पर लोग जाने से भी डरते है, लेकिन जिन लोगो को भूत प्रेत आत्माओ पर बिलकुल भी विस्वास नहीं है, वो लोग यहाँ पर घूमने के लिए जरूर जाते है. आप लोगो का तो मुझे पता नहीं लेकिन मेरा भूत प्रेत पिशाच पर विश्वास है. क्योकि एक समय ऐसा भी आया था जब मेरा खुद सामना एक भूत से हुआ था. खेर ये तो है मेरी बात, अब हम सीधे आपको उस भूतिया टावर की और ले कर चलते है.

लंदन ऑफ टावर का इतिहास लंदन ऑफ टावर, लंदन शहर के बीचों बीच खड़ी एक पुरानी इमारत है. लगभग 1,000 वर्ष पुरानी इस इमारत की भी अपना एक अलग इतिहास है और कहानी है. जो कि इसमें रहने वालों की मौत की कहानी है. इस इमारत में मौत, फांसी, हत्या, और अत्याचारों की ऐसी ऐसी वारदाते हुयी है जो आज तक महसूस की जाती है. इस इमारत की दिवारों में आज भी मौत की उन चींखों को आसानी से महसूस किया जा सकता है. ब्रिटेन की राजधानी लंदन के बीचों बीच थेम्स नदी के किनारे यह भव्य इमारत स्थित है. इस इमारत का निर्माण सन 1078 में विलियम ने कराया था. इस इमारत को बनवाने में फ्रांस से बेशकिमती संगमरमर और पत्थरों को मंगवाया गया था. इस इमारत का परिसर बहुत बड़ा है और इस परिसर में और भी कई इमारते हैं. एक शानदार समय था जब यह ब्रिटेन का शाही महल था.

आपको बता दें कि अपने दौरा में यह इमारत राजसी बंदियों के लिए कारागार भी थी और यह महल अनेक मृत्युदंड तथा हत्याओं का साक्षी रहा है. इस इमारत में यहां के राज परिवार के लोगों के ही खुन के छिटे हैं जो कभी-कभी इंसानी दुनिया में लोगों को कुछ महसूस करा देते हैं और लोग उन्हें भूत, प्रेत और रूहों का नाम दे देते हैं. इस इमारत में सिर कलम करना भी एक सजा के तौर पर प्रयोग की जाती थी. स्मिथ अष्ठम जिसका जन्म 28 जून सन 1491 में हुआ था एक ऐसा पराक्रमी और कठोर शासक जो कि अपने जन्म से लेकर अपने मौत तक लंदन का शासक बना रहा. टावर आफ लंदन में इस शासक के कारनामें बहुत थे लेकिन जो अविष्मरणीय था वो कुछ ऐसा था. स्मिथ अपने जन्म के बाद समयानुसार बड़ा हुआ वह वहुत ही पराक्रमी और तेज था. वे लॉर्ड ऑफ आयरलैंड तथा फ्रांस के साम्राज्य के दावेदार थे. स्मिथ हाउस ऑफ ट्युडर के द्वितीय राजा थे, जो कि अपने पिता स्मिथ सप्तम के बाद इस पद पर आसीन हुए.

इन्हे भी पढ़े….

शैतानी आत्मा की सच्ची कहानी

सुजेल की अनहोनी दास्ताँ

पत्नी की भटकती आत्मा

खुनी जंगल की दास्ताँ

एक खतरनाक भेड़िये की कहानी

चुड़ैल और डायन का रहस्य

मौत उगलने वाला कुआ

अपने छः विवाहों के अलावा, स्मिथ अष्टम चर्च ऑफ इंग्लैंड को रोमन कैथलिक चर्च से पृथक करने में उनके द्वारा निभाई गई भूमिका के लिये भी जाने जाते हैं. स्मिथ की कठोरता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उसने अपनी दूसरी पत्नी को खुद ही मौत की सजा सुना दी. स्मिथ की पहली पत्नी एनारान की कैथरीन थी और दूसरी पत्नी मशहूर शैला बोलिन थी. स्मिथ को उस समय एक उत्तराधिकारी यानी की बेटे की जरूरत थी. उस समय शैला बोलिन गर्भवती थीं, लेकिन शैला को डर था कि कहीं पूर्व की भांती इस बार भी कोई अप्रिय घटना न घटित हो जाये. लेकिन वही हुआ जिसका डर था. एलिन का गर्भपात हो गया जो कि राजा स्मिथ को नगवार गुजरा और उसने शैला को मौत की सजा सुना दी. इस घटना के बाद शैला खास फ्रासिंसी अंदाज में मौत को गले लगाया और ग्रिन टावर (टावर ऑफ लंदन का एक हिस्सा) पर घुटने के बल बैठ गयी और एक बडे़ से फरसे से उनका सिर कलम कर दिया गया. शैला की मौत के बाद भी स्मिथ ने अपनी एक और पत्नी का सिर कलम करवाया था. ऐसा माना जाता है कि आज भी शैला का भूत टावर ऑफ लंदन में भटकता रहता है.

एक बार की बात है टावर ऑफ लंदन के एक चौकीदार ने कुछ ऐसा मंजर देखा था. चौकीदार के अनुसार 12 फरवरी सन 1957 में सर्दियों की रात थी और वो टावर के परिसर में रखवाली कर रहा था तभी उसने ग्रीन टावर के पास किसी सफेद साये को देखा. जो कि देखने में एकदम रानी की ही तरह लग रही थी. लेकिन उसका सिर उसके धड़ पर नहीं था ब्लकी वो अपने सिर को अपने दायें हाथ में पकड़ी हुयी थी. चौंकाने वाली बता यह थी कि वो तारिख भी वहीं थी यानी की 12 फरवरी जो कि सन 1554 में थी और स्मिथ ने अपनी दूसरी रानी लेडी जेन ग्रे का सिर कलम करवाया था. इसके अंलावा शैला बोलिन और लेडी जेन ग्रे अकसर लंदन के उस भव्य टावर में देखी जाने लगी. स्मिथ अष्ठम के इस खौफनाक कारनामें ने जहां लोगों को जिंदगी से दूर कर दिया वहीं इस इमारत को एक अविस्मरणीय इतिहास भी दे दिया. शैला बोलिन और जेन ग्रे के अलांवा भी अन्य कई लोगों की रूहें इस टावर में बेखौफ घुमती रहती हैं.

सन 1541 में एक शाही कर्मचारी को मौत की सजा सुनायी गयी थी उस पर आरोप था उसने बही खातों के साथ छेड़छाड की थी. इसके लिए उसे कुलहाडियों से काट कर मौत के घाट उतार दिया गया. ऐसा माना जाता है कि वो निर्दोष था. वो कर्मचारी आज भी इस टावर के प्रशासनिक भवन मे भी उसे देखा जाता है उसका शरीर क्षत विक्षत होता है और उसके हाथ में एक कुलहाड़ी होती है. इस टावर में बहुत सारी अजीबो गरीब चीजें आप देख सकते हैं. यहां जानवरों को बांध कर रखा जाता था और महज मनोरंजन के लिए उन्हे पाला जाता था. ऐसा बताया जाता है कि टावर में एक भालू का भी भूत देखने को मिलता है. सन 1251 में स्मिथ तृतीय को नार्वे के राजा ने उपहार के रूप में एक ध्रूविय भालू दिया था. इस भालू को टेम्स नदी के किनारे से मछलियों को खाना दिया जाता था. कुछ सालों के बाद उसे महल से हटा दिया गया जहां उसकी मौत हो गयी.

आज भी इस टावर में कभी कभी परिसर में इस भालू की छाया को घुमते हुए देखा जाता है. यह सुनकर आपको अजीब लगेगा कि इतनी बड़ी इमारत के संरक्षक भला कौवे कैसे हो सकते है. लेकिन यह सत्य है इस टावर की सुरक्षा यहां 8 कौवों के कंधों पर है. ऐसा माना जाता है कि जिस दिन ये कौवे इस टावर को छोड़कर कहीं और चले जायेंगे उस दिन यह टावर अपने आप ही धवस्त हो जायेगा. इन कौवों की स्वास्थ और सुरक्षा का भी खास ख्याल रखा जाता है. यह कौवे बहुत सालों से यहां रहते है इनमें से एक की मौत 44 साल की उम्र में हुयी थी. यह इमारत हजारों कैदियों उनकी सजा और उनके मौत की गवाह है. यहां हम आपको कुछ खास कैदियों के नाम बता रहे है जो कि आज से लगभग 900 साल पहले इस इमारत की जेल में बंद थे. इस इमारत में राजघराने से लेकर संतों तक को कैदी बनाया गया था. जैसे कि रेनाल्फ फ्लेमबर्ड जो कि एक मंत्री थे.

स्काट के राजा जॉन बालिओल, जार्ज ड्यूक राजा का भाई, एडवर्ड पंचम राजकुमार, एन्ने एसक्यू महिला कैदी, हीव ड्रैपर जादूगर, जॉन गेरार्ड संत, सर वाल्टर रालेग दरबारी कवि, सर एवेरार्ड डिग्बी महान कैथोलिक. ये ऐसे लोग थे जिन्हे इस इमारत में अलग अलग जगहों पर कैद कर के रखा गया था. इमारत में कैदियों के साथ भयानक यातनाए दी जाती थी. कभी कभी कैदियों के जिन्दा जलाया जाता था और उनके शरीर को टुकड़ो में काट काट कर फेक दिया जाता था. इतना ही नहीं कुछ कैदियों के साथ इससे भी भयानक सूलूक किया जाता था जैसे कि उनके गुप्तांग काट दिये जाते थे और उन्हे जमीन पर लिटा कर उनकी आंते एक यन्त्र से बाहर की तरफ निकाली जाती थी उस वक्त कैदी जिन्दा ही रहता था.

इन्हे भी पढ़े….

कड़वी बहु की कहानी मोटिवेशनल कहानी

जब हो गयी बेटी नाराज

गोलगप्पे की कहानी

हैरान कर देने वाली अध्भुत कहानी

सम्मान और प्यार की एक अद्भुत कहानी

शनि देव की हार

लक्ष्य की अनोखी कहानी

सिवाये अपनी आंखों के सामने आंतों को निकलता देख और कुछ नहीं कर सकता था. लंदन में स्थित यह इमारत इसमें मरने वाले रूहो से भरी पड़ी है. आप इन्हे कभी भी देख सकते है. इस इमारत को अब दुनिया भर के लोगों को दिखाने के लिए एक टूरिस्ट प्लेस के तौर पर शुरू किया गया है. आप टिकट लेकर इस इमारत में इन रूहो को महसूस कर सकत है और एक रोमांचक दुनिया की यात्रा कर सकते है. यह इमारत आपको उस दौर में ले जाने के लिए सक्षम है. इसके लिए आप या तो लंदन जाकर टिकट बुक कराये या तो आप आनलाईन भी अपना टिकट बुक करा सकते है. तो दोस्तों एक बार आप इस टावर में जाकर जरूर भूतो का दर्शन कर सकते है.

loading...

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!